सकारात्मक लोगों की पहचान ( Identifying the Positive People in Hindi )

आशा करते हैं आपने हमारा पिछला ब्लॉग “सकारात्मक लोगों का साथ जरूरी क्यों है?” जरूर पढ़ा होगा| आज इस ब्लॉग में हम बात करेंगे कि आखिर सकारात्मक लोगों की पहचान क्या है|

जिस समाज और वातावरण में हम रहते हैं वहां सकारात्मक लोगों को ढूंढना और खुद भी सकारात्मक बने रहना बेहद मुश्किल है| खासकर ऐसे देश में जहां धर्मो जैसी महान चीजों को भी नकारात्मक रूप से अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करने से नहीं बख्शा जाता है|

लेकिन आप निराश ना हो| आंखें खुली रखें और उन सभी बातों का ध्यान रखें जो हमने नीचे बताई हैं, तो बिल्कुल ऐसे लोग आपकी जिंदगी में आने शुरू हो जाएंगे जो सकारात्मक और प्रेरणादायक है|

जब आप सकारात्मक लोगों को ढूंढने निकले तो ध्यान रहे कि आप में भी सकारात्मक लोगों वाले गुण हो, क्योंकि तभी आप ऐसे लोगों की पहचान कर पाएंगे| बात यह भी है कि जो गुण आप दूसरे लोगों में ढूंढ रहे हैं दूसरे लोग भी आपने वही गुण ढूंढ रहे होंगे| भले ही वह इस बात को तरजीह ना दे, लेकिन उनके अवचेतन मन में यह बात मायने रखेगी|

तो चलिए पता करते हैं कि आखिर वह क्या अच्छाइयां हैं, जो आपको एक सकारात्मक इंसान बनाने के साथ साथ ही सकारात्मक लोगों की पहचान करने में मदद करेंगी:

1. दूसरों में अच्छाई देखना ( See Kindness In Others )

खुश और सकारात्मक लोगों की पहली पहचान होती है, कि वह दूसरों में या फिर किसी भी चीज में हमेशा अच्छाई ढूंढने की कोशिश करते हैं| ऐसा करने से वह बेहतर महसूस करते हैं|

2. आसानी से माफ कर देना ( Easy to forgive )

खुशहाल जिंदगी के लिए आसपास का माहौल तनाव मुक्त और खुशनुमा होना चाहिए| दूसरों की गलतियों के बारे में सोच सोच कर अंदर ही अंदर घुटते रहने से रिश्तों में कड़वाहट भर जाती है| ऐसे तनाव को जल्द से जल्द सुलझा कर एक दूसरे को माफ कर देना सकारात्मक लोगों की दूसरी सबसे बड़ी अच्छाई है|

3. शांत स्वभाव का होना ( Being Cool )

यह गुण सकारात्मक लोगों में होना बेहद जरूरी है| अगर आपको अपने जीवन में एक बेहतर इंसान बनना है तो आपको आपकी चेतना ओं के ऊपर काबू करना आना चाहिए| कोई भी काम या निर्णय सोच-समझकर शांत दिमाग से लेना चाहिए| सकारात्मक लोगों को कभी गुस्सा नहीं आता|

4. छोटी-बड़ी चीजों के लिए शुक्रगुजार होना ( Thankful to Have All the Blessings )

ऐसे लोग हर एक छोटी बड़ी चीज जो उनके पास है, उस सभी के लिए भगवान और प्रकृति के शुक्रगुजार होते हैं|

5. खुद से भी अच्छे से पेश आना ( Treat Themselves Well )

सकारात्मक लोग दूसरों के साथ ही अपनी अहमियत भी बखूबी जानते हैं| वह जानते हैं कि जो उनके पास है वह क्या है, और कितना जरूरी है| वह नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, दिमाग का ठीक से इस्तेमाल करते हैं, और हेल्दी खाना खाते हैं|

6. हमेशा अच्छे की उम्मीद करना ( Always Optimistic )

सकारात्मक लोग चीजों को सकारात्मक रूप से ही लेते हैं, और उम्मीद भी यही करते हैं कि जो भी उनके साथ होगा वह अच्छा ही होगा, और आने वाला वक्त बेहतर आएगा|

7. शिकायतें करने और बातें बनाने से दूर रहना ( Being Away From Complaining And Gossiping )

सकारात्मक लोग अपने आप को दूसरों की या खुद की शिकायत दूसरों से या खुद से करने से पूरी तरह बचाते हैं, और वह ना ही किसी ऐसी बातचीत का हिस्सा बनते हैं, जो दूसरों से शिकायत या फिर दूसरों की बुराइयों के बारे में चल रही हो|

8. दूसरों को आगे बढ़ने में मदद करते हैं ( Help Others to Achieve )

ऐसे लोग बिना किसी लालच या फिर द्वेष के लोगों के मदद करने से जरा भी नहीं हिचकिचाते, भले ही वो उनके करीबी हो या फिर अनजान सभी की आगे बढ़कर मदद करते हैं|

9. अपनी गलतियों को स्वीकार करना और माफी मांगने से परहेज ना करना ( Accepting the Mistakes And Being Comfortable to Say Sorry )

अगर आपने फिल्म “कभी खुशी कभी गम” देखी है तो आपको उसमें कहा गया एक डायलॉग जरूर ध्यान होगा, कि माफी मांगने से कोई छोटा बड़ा नहीं होता, लेकिन जो माफ कर देता है उसका दिल बहुत बड़ा होता है| तो अपनी गलतियों को मानने से आप छोटे नहीं हो जाते बल्कि गलतियां मानने से उन्हें ठीक करने का अवसर और राह मिल जाती है|

10. जिंदगी का अनुभव कर उसका आनंद लेते हैं ( Experience life and enjoy it )

सकारात्मक लोग अपने आसपास चल रही चीजों को खुलकर और पूरी तरह से जीते हैं| वो आंखें और दिमाग हमेशा खुले रखते हैं, छोटी छोटी चीजों से सीखते हैं, और जिंदगी का पूरी तरह मजा लेते हैं|

जिंदगी का मकसद है, खुश होना और इसे पूरी तरह जीना, और सकारात्मक होना इस राह में पहला कदम है| हर रोज कुछ नया करने की चाह के साथ उठिए, Motivated रहिए, सकारात्मक लोगों का साथ ढूंढिए, आने वाला वक्त बेशक आपके लिए बेहद खुशगवार होगा| जिंदगी में उतार-चढ़ाव हमेशा ही आते रहते हैं| हो सकता है कि कोई वक्त आपके हिसाब से ना चले, लेकिन आप अच्छे की आशा रखना ना छोड़े| अच्छे लोगों के साथ भी बुरा होता है, लेकिन अच्छे लोगों के साथ ज्यादातर अच्छा ही होता है|

खुदाई में इख्तियार पास में रखो,
और थोड़ा सा यकीन एक आश में रखो,
बुरा है पल पर पल भर का साथी है,
गर एक और कदम चलने का दम तुम अपनी सांस में रखो|

Poetry By Washid Ali

आशा करते हैं आपको हमारा यह ब्लॅग पसंद आया होगा| इस बारे में अपना कोई भी सुझाव या सवाल आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं|

धन्यवाद|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *