बंदिशें सिर्फ आपके दिमाग में हैं!

Boundaries Are In Your Head Only!

यह कहानी है महान जादूगर हैरी हाउदिनी ( Harry Houdini ) की, जो अपने वक्त के इकलौते मगर बेहद काबिल कलाकार थे| उनके जादू बड़े-बड़े बुद्धिजीवियों को हैरान करने के साथ-साथ ही हर किसी को परेशान भी करते थे|

उनके द्वारा दिखाए गए कई प्रकार के जादू में से लोग हाउदिनी के वो जादू बेहद पसंद करते थे जिसमें वो ताले, रस्सी और जंजीरों का इस्तेमाल करते थे| सिर्फ इतना ही नहीं वो अपने आप को इन सभी चीजों से बांधकर अपने आप को ऐसी जगह रख देते थे जहां उनकी जिंदगी को खतरा हो| वक्त रहते अगर वो अपने आप को जंजीरों को से आजाद ना करा पाते तो उनकी जिंदगी खतरे में होती थी| लेकिन ऐसा कभी ना हुआ कि वह अपने आप को सुरक्षित बाहर ना निकल पाए|

दूर-दूर से उन्हें अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए बुलाया जाता| कभी वह जेल के लॉकअप में बंद किए जाते, तो कभी उन्हें रस्सी के साथ बांधकर ऊंचाई से उल्टा लटका दिया जाता| लेकिन वो हमेशा ही खुद को बचाने में कामयाब रहे| शिवाय एक बार के, जब उन्हें एक जेल के लॉकअप में बंद किया गया| उन्हें पूरा यकीन था कि वह थोड़े ही वक्त में इस लॉकअप से अपने आप को छुड़ा लेंगे|

उन्होंने अपनी बेल्ट से एक धातु का तार निकाला, और लग गए ताले को खोलने| वक्त गुजरता गया, लेकिन उनकी सारी कोशिशें नाकाम होती जा रही थी| वो बार-बार कोशिश करते और नाकाम हो जाते| जिंदगी भर का सारा अनुभव उन्होंने इस ताले को खोलने में लगा दिया| लेकिन 2 घंटे के बाद भी उनसे वह ताला ना खुला और उन्हें थक कर हार मान ली|

उन्होंने हताश होकर खुद को बाहर निकालने के लिए कहा| जेल का कर्मचारी आया, उसने बिना कोई चाबी लगाए लॉकअप का दरवाजा खोल दिया और उन्हें बाहर निकाल लिया|

दरअसल उस लॉकअप ताला कभी लगा ही नहीं गया था| भले ही वह पहले से ही खुला हो, लेकिन फिर भी वह हाउदिनी के दिमाग में पूरी तरह बंद था| वह सिर्फ एक हल्के से धक्के से खुल सकता था लेकिन उनके दिमाग में यह बात आई ही नहीं|

ठीक ऐसे ही कभी-कभी हम अपने आप को उन बंदिशों की वजह से चीजें करने से रोकते रहते हैं जो असल में होती ही नहीं है| असल जिंदगी में भी हमें हर तरह से प्रयास करके आगे बढ़ने की कोशिश करते रहनी चाहिए| बंदिशें सिर्फ हमारे दिमाग में है और कहीं नहीं|

अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आया हो, या फिर इस बारे में कोई सुझाव या सवाल हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं|

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *