शहीद भगत सिंह के कुछ प्रेरणादायक विचार ( Slogans by Bhagat Singh in Hindi )

जहां हम रहते हैं वो मिट्टी ऐसे वीरों की कर्मभूमि है, जिन्होंने भारत मां की गरिमा को बचाने के लिए अपने खून के एक-एक कतरे की आहुति दे दी|भगत सिंह भी ऐसे ही वीरो मे से एक थे| उनके कुछ ऐसे बोल जिन्हें पढ़कर आपको इस देश का नागरिक होने पर गर्व होगा: Slogans by Bhagat Singh in Hindi

Slogans by Bhagat Singh in Hindi

मेरा एक ही धर्म है और वो देश की सेवा करना।

भगत सिंह

जिंदगी तो अपने दम पर जी जाती है दूसरों के कंधे पर तो जनाजे उठाए जाते हैं।

भगत सिंह

बुराई इसलिए नहीं बढ़ रही है क्योंकि बुरे लोग बढ़ रहे हैं बल्कि इसलिए बढ़ रही है क्योंकि बुराई काे सहने वाले लोग बढ़ रहे हैं।

भगत सिंह

अगर हमें सरकार बनाने का मौका मिलेगा तो किसी के पास जाती-जायदात नहीं होगी, सबको काम मिलेगा और धर्म व्यक्तिगत विश्वास की चीज होगी सामूहिक नहीं।

भगत सिंह

मेरे सीने में जो जख्म हैं वो जख्म नहीं फूलों के गुच्छे हैं हमें तो पागल ही रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं।

भगत सिंह

क्या आपको पता है दुनिया में सबसे बड़ा पाप गरीब होना है? गरीबी अभिशाप है एक सजा है।

भगत सिंह

क्रांति की तलवारे तो सिर्फ विचारों की शान से तेज की जाती हैं।

भगत सिंह

मुझे कभी भी अपनी हिफाज़त करने की कोई इच्छा नहीं थी और ना ही कभी मैंने इसके बारे में गंभीरता से सोचा।

भगत सिंह

चीजें जैसी हैं आमतौर पर लोग उसके आदी हो जाते हैं और बदलाव के ख़याल से ही कांपने लगते हैं, हमें इसी निष्क्रियता को क्रांतिकारी भावना से बदलने की जरूरत है।

भगत सिंह

अगर बहरो को सुनना है तो आवाज को ऊंचा करना होगा, जब हमने बम गिराया तो हमारा मकसद किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं था। हमने बम इसलिए गिराया था हमें ये आवाज़ सुनानी थी कि अंग्रेजों को भारत छोड़ना चाहिए और इसे आज़ाद करना चाहिए।

भगत सिंह

Slogans by Bhagat Singh in Hindi

आज़ादी हर इंसान का कभी ना खत्म होने वाला जन्मजात अधिकार है।

भगत सिंह

बम और पिस्तौल से क्रांति नहीं आती, क्रांति की तलवार विचारों की शान से तेज होती है।

भगत सिंह

कठोर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम लक्षण हैं।

भगत सिंह

अक्सर देशभक्त को सभी लोग पागल समझते हैं।

भगत सिंह

इंसानों को तो मारा जा सकता है लेकिन उनके खयालो को नहीं।

भगत सिंह

मैं इंसान हूं मुझे हर वो बात प्रभावित करती हैं जो इंसानियत को प्रभावित करे।

भगत सिंह

हर वो शख्स जो विकास के लिए खड़ा है उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी और उसको लेकर अविश्वास करना होगा और उसे चुनौती देनी होगी।

भगत सिंह

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल में भी आज़ाद है।

भगत सिंह

मैं इस बात पर जोर देता हूं कि जीवन, आशा और महत्वाकांक्षा को लेकर आकर्षित भरा रहूं लेकिन जरूरत पड़ने पर मैं ये सब त्याग सकता हूं और यही सच्चा बलिदान है।

भगत सिंह

इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर  सुनिश्चित होता है जैसे कि हम विधानसभा में बम फेंकने को लेकर थे।

भगत सिंह

प्रेमी, कवि और पागल एक ही चीज से बने हैं।

भगत सिंह

Slogans by Bhagat Singh in Hindi

किसी ने सच ही कहा है कि सुधार बूढ़े लोग नहीं कर सकते। वो बहुत ही अक्लमंद और समझदार होते हैं । सुधार तो हाेते हैं जवानों की मेहनत, साहस, बलिदान और वफादारी से।जिनको डरना आता ही नहीं और जो सोचते कम तजुर्बे ज्यादा करते हैं।

भगत सिंह

जिंदा रहने की ख्वाहिश कुदरती तौर पर मुझ में भी है होनी चाहिए ये छुपाने जैसा नहीं है लेकिन मेरा ज़िंदा रहना एक शर्त पर है कि मैं कैद होकर या पाबन्द होकर जिंदा रहना नहीं चाहता।

भगत सिंह

कानून की पवित्रता तभी तक बनी रह सकती है, जब तक वो लोगों की इच्छा को इजहार करे।

भगत सिंह

अगर धर्म को अलग कर दिया जाए तो राजनीति पर हम सब इकट्ठे हो सकते हैं । धर्मों में हम चाहें अलग ही रहें।

भगत सिंह

यह भी पढ़ें: सद्गुरु की सबसे जरूरी शिक्षाएं ( The Most Important Teachings of Sadhguru in Hindi )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *